अंग्रेजी और मैन्डरिन के बाद हिंदी है विश्व की तीसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा : एथनोलोग

18 फरवरी, 2020 को एथनोलोग ने विश्व की जीवित भाषाओँ पर अपने वार्षिक डेटाबेस को प्रकाशित किया। एथनोलोग के अनुसार हिंदी विश्व की तीसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है, विश्व में 615 मिलियन लोग हिंदी भाषा का उपयोग करते हैं।

अंग्रेजी विश्व की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है, 1132 मिलियन लोग अंग्रेजी भाषा का उपयोग करते हैं।  जबकि मैन्डरिन विश्व की दूसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है, 1117 मिलियन लोग मैन्डरिन भाषा का उपयोग करते हैं। इस डेटाबेस के अनुसार बांग्ला विश्व की 7वीं सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है, 228 मिलियन लोग बांग्ला भाषा का उपयोग करते हैं।

इस डेटाबेस में 7,111 जीवित भाषाओँ को कवर किया गया है। इस डेटाबेस में 348 ऐसी भाषाओँ को भी शामिल किया गया है, जिनके उपयोग अब नहीं किया जा रहा है।

एथनोलोग

एथनोलोग एक वाषिक प्रकाशन है, इसमें विश्व की जीवित भाषाओँ का डाटा संकलित किया जाता है। इसका प्रकाशन 1951 से SIL इंटरनेशनल द्वारा किया जा रहा है। इस वर्ष एथनोलोग के 22वें संस्करण को रिलीज़ किया गया है।

SIL एक गैर-लाभकारी संगठन है, जो भाषाओँ का संकलन करता है। इसका स्थापना 1933 में किया गया था।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , ,