आईएनएस विशाल : भारत और यूनाइटेड किंगडम अत्याधुनिक एयरक्राफ्ट कैरिएर का निर्माण कर सकते हैं

रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत और यूनाइटेड किंगडम के बीच  अत्याधुनिक एयरक्राफ्ट कैरिएर के निर्माण के लिए वार्ता जारी है, यह एयरक्राफ्ट कैरिएर ब्रिटेन के HMS क्वीन एलिज़ाबेथ की रेप्लिका (प्रतिलिपि) होगा। यह वार्ता “मेक इन इंडिया” पहल का हिस्सा है। इस एयरक्राफ्ट कैरिएर का नाम आईएनएस विशाल रखा जायेगा। यह भारतीय नौसेना का सबसे बड़ा युद्धपोत होगा।

मुख्य बिंदु

यूनाइटेड किंगडम के एयरक्राफ्ट कैरिएर के डिजाईन का स्वामित्व ब्रिटिश तथा फ़्रांसिसी एयरोस्पेस कंपनियों BAE और थेल्स के पास है। इन कंपनियों के साथ भारत की समझौता वार्ता जारी है। इस एयरक्राफ्ट कैरिएर का डिजाईन भारतीय नौसेना की आवश्यकता के अनुसार कुछ परिवर्तित भी किया जायेगा। सौदे पर सहमती बनने के बाद इस युद्धपोत का निर्माण भारत में “मेक इन इंडिया” अभियान के तहत किया जायेगा। इसके कुछ पुर्जों की आपूर्ति यूनाइटेड किंगडम से की जा सकती है।

यह नया एयरक्राफ्ट कैरिएर आईएनएस विक्रमादित्य (45,000 टन भार वाले कैरिएर को भारत ने रूस से 2004 में खरीदा था) तथा आईएनएस विक्रांत (40,000 टन भार वाला कैरिएर अभी निर्माणाधीन है) के साथ मिलकर कार्य करेगा।

HMS क्वीन एलिज़ाबेथ

HMS क्वीन एलिज़ाबेथ 65,000 भार वाला ब्रिटिश युद्धपोत है। यह रॉयल नेवी के लिए निर्मित अब तक का सबसे बड़ा युद्धपोत है। इस युद्धपोत पर 60 एयरक्राफ्ट ले जाए जा सकते हैं। इसका नाम महारानी एलिज़ाबेथ प्रथम के सम्मान में रखा गया है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , , , ,