आज मनाया जा रहा है विश्व अस्थमा दिवस

विश्व अस्थमा दिवस प्रतिवर्ष मई महीने के प्रथम मंगलवार को मनाया जाता है, इसका आयोजन ग्लोबल इनिशिएटिव फॉर अस्थमा द्वारा किया जाता है। सर्वप्रथम विश्व अस्थमा दिवस का आयोजन 1998 में किया गया था।

मुख्य बिंदु

अस्थमा (दमा) श्वसन सम्बन्धी रोग है, यह सभी आयुवर्ग के लोगों को प्रभावित कर सकता है। इस रोग में पीड़ित को सांस लेने में तकलीफ, खांसी तथा छाती में दबाव इत्यादि हो सकता है। यह श्वसन मार्ग में सूजन के कारण होता है। अस्थमा अनुवांशिक भी हो सकता है और पर्यावरण के कारण भी। पर्यावरण में प्रदूषण तथा एलर्जेटिक कणों के कारण भी यह हो सकता है।

हालाँकि अस्थमा का कोई स्थायी इलाज नहीं है, परन्तु इसके विभिन्न तरीकों से नियंत्रित किया जा सकता है। अस्थमा ट्रिगर करने वाले कारकों (प्रदूषण कण इत्याद) से दूर रहने के कारण इससे बचा जा सकता है।

लांसेट द्वारा किये गये अध्ययन के अनुसार 2015 में ट्रैफिक से सम्बंधित प्रदूषण के कारण भारत में 3,50,000 बच्चे अस्थमा से पीड़ित थे, इस मामले में भारत चीन के बाद दूसरे स्थान पर था। 2015 में विश्व भर में अस्थमा के कारण 3,97,100 लोगों की मृत्यु हुई थी। 2015 के डाटा के अनुसार विश्व भर में 358 मिलियन लोग अस्थमा से पीड़ित हैं।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,