इंडोनेशिया में सुनामी : सुनामी व इसके कारण

22 दिसम्बर, 2018 को इंडोनेशिया में सुनामी आई, सुनामी की विशालकाय लहरों सुमात्रा और जावा द्वीप पर काफी तबाही मचाई, अब तक सुनामी के कारण 281 लोगों की मृत्यु हो चुकी है, जबकि 1000 से अधिक लोग घायल हो चुके हैं।

सुनामी क्या है?

सुनामी से अभिप्राय महासागर अथवा विशाल झील जैसे जल स्त्रोत में प्रभावशाली हलचल होने के कारण उत्पन्न होने वाली विशालकाय लहरों से है। सुनामी की लहरें साधारण लहरों से काफी अलग होती हैं। साधारण लहरें हवा तथा ज्वार के कारण उत्पादन होती है। जबकि सुनामी की लहरें समुद्र के तल में भूकंप, ज्वालामुखी विस्फोट, भूमिगत विस्फोट, भूस्खलन इत्यादि के कारण उत्पन्न होती है।

सुनामी के लहरों की उंचाई काफी ज्यादा होती है, जब यह लहरें तटीय क्षेत्रों में पहुंचती हैं तो इससे बड़े पैमाने पर जान व माल की हानि होती है।

इंडोनेशिया में ज्वालामुखीय सुनामी

इंडोनेशिया में ज्वालामुखी विस्फोट के कारण सुनामी आई, यह घटना अनक क्राकटाऊ ज्वालामुखी में हुई। इस विस्फोट के कारण लाखों टन मलबा समुद्र में चला गया है, जिस कारण बड़ी मात्रा में जल का विस्थापन हुआ, जिससे सुनामी की विशालकाय लहरों का निर्माण हुआ।

अनक क्राकटाऊ

इंडोनेशिया प्रशांत महासागर की “रिंग ऑफ़ फायर” (अग्नि मुद्रिका) पर स्थित है। इस क्षेत्र में काफी भूकंप आते हैं। इसके अलावा इंडोनेशिया में 127 सक्रीय ज्वालामुखी हैं, इनमे से एक ज्वालामुखी अनक क्राकटाऊ है। अनक क्राकटाऊ एक ज्वालामुखी द्वीप है, इसका निर्माण 1927 में क्राकटाऊ ज्वालामुखी विस्फोट के कारण हुआ था। हाल ही में अनक क्राकटाऊ में जून, 2010 से विस्फोट हो रहे थे।

रिंग ऑफ़ फायर (अग्नि मुद्रिका)

रिंग ऑफ़ फायर प्रशांत महासागर में स्थित क्षेत्र है, इस क्षेत्र में बड़ी मात्रा में सक्रीय ज्वालामुखी है। यह अक्सर भूकंप आते हैं और ज्वालामुखी विस्फोट होते हैं। रिंग ऑफ़ फायर पृथ्वी की लिथोस्फेरिक प्लेट्स की हलचल तथा टकराव का परिणाम है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , , , , , ,