इसरो ने बंगलुरु में की SSAM केंद्र की स्थापना

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) ने हाल ही में कर्नाटक के बंगलुरु में SSAM (Space Situational Awareness Control Centre) की आधारशिला रखी। इसका उद्देश्य भारतीय उपग्रहों को अन्तरिक्ष में फैले हुए कचरे से बचाना है।

SSAM (Space Situational Awareness Control Centre)

यह निष्क्रिय उपग्रहों से भारतीय उपग्रहों की रक्षा में काफी कारगर सिद्ध होगा, इससे विपरीत मौसम के बारे में जानकारी भी मिलेगी।  यह केंद्र निष्क्रिय उपग्रहों के बारे में डाटा एकत्रित करेगा। इससे अन्तरिक्ष में फैले हुए कचरे को हटाने तथा अन्तरिक्ष के सतत उपयोग में भी सहायता मिलेगी।

पृष्ठभूमि

वर्तमान में इसरो के 50 अधिक उपग्रह कार्यशील हैं, यह उपग्रह संचार, नेविगेशन तथा निगरानी के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं। इससे पहले अन्तरिक्ष में फैले हुए कचरे से सम्बंधित जानकारी और मॉनिटरिंग के इसरो नार्थ अमेरिका एयरोस्पेस डिफेन्स कमांड (NORAD) पर निर्भर था।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

इसकी स्‍थापना 1969 में की गई। 1972 में भारत सरकार द्वारा ‘अंतरिक्ष आयोग’ और ‘अंतरिक्ष विभाग’ के गठन से अंतरिक्ष शोध गतिविधियों को अतिरिक्‍त गति प्राप्‍त हुई। ‘इसरो’ को अंतरिक्ष विभाग के नियंत्रण में रखा गया। 70 का दशक भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के इतिहास में प्रयोगात्‍मक युग था जिस दौरान ‘भास्‍कर’, ‘रोहिणी”आर्यभट’, तथा ‘एप्पल’ जैसे प्रयोगात्‍मक उपग्रह कार्यक्रम चलाए गए।

80 का दशक संचालनात्‍मक युग बना जबकि ‘इन्सेट’ तथा ‘आईआरएस’ जैसे उपग्रह कार्यक्रम शुरू हुए। आज इन्सेट तथा आईआरएस इसरो के प्रमुख कार्यक्रम हैं। अंतरिक्ष यान के स्‍वदेश में ही प्रक्षेपण के लिए भारत का मज़बूत प्रक्षेपण यान कार्यक्रम है। इसरो की व्‍यावसायिक शाखा एंट्रिक्‍स, विश्‍व भर में भारतीय अंतरिक्ष सेवाओं का विपणन करती है। भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम की ख़ास विशेषता अंतरिक्ष में जाने वाले अन्‍य देशों, अंतरराष्ट्रीय संगठनों और विकासशील देशों के साथ प्रभावी सहयोग है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,