इलेक्ट्रॉनिक नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट को अतिरिक्त 200 मंडियों से जोड़ेगी सरकार

केंद्र सरकार इस वित्त वर्ष (2018-19) में ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफार्म ईएनएएम (इलेक्ट्रॉनिक नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट) को अतिरिक्त 200 थोक मंडियों को जोड़ने जा रही है जो अंतर-मंडी लेनदेन को भी प्रोत्साहित करती है। वर्तमान में, 14 राज्यों में 585 विनियमित मंडी ईएनएएम से जुडी हुई हैं। अब तक, 73.50 लाख किसान, 53,163 कमीशन एजेंट और 1 लाख से अधिक व्यापारी 14 राज्यों से इससे पंजीकृत हैं। सरकार यह सुनिश्चित कर रही है कि सभी थोक कृषि-मंडी ऑनलाइन नीलामी को अपनाएं और धीरे-धीरे राज्य में मंडियों के बीच व्यापार और अंततः राज्यों के बाहर मंडियों के बीच व्यापार की अनुमति दें, जिससे किसानों के लाभ हेतु एकल राष्ट्रीय कृषि बाजार स्थापित किया जा सके।

ई एनएएम (इलेक्ट्रॉनिक नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट)

ईएनएएम कृषि उपज के लिए अखिल भारतीय इलेक्ट्रॉनिक व्यापार पोर्टल है इसका लक्ष्य कृषि वस्तुओं के लिए बाजारों को एकीकृत करके मौजूदा कृषि उत्पादन बाजार समिति (एपीएमसी) द्वारा एकीकृत राष्ट्रीय बाजार बनाना है। यह सभी एपीएमसी से संबंधित सेवाओं और सूचनाओं के लिए एकल खिड़की सेवा (single window service) प्रदान करता है, जैसे कमोडिटी आगमन और कीमतें, व्यापार प्रस्तावों का जवाब देने के प्रावधान, अन्य सेवाओं के बीच व्यापार प्रस्तावों को खरीदने और बेचने के लिए प्रावधान आदि शामिल है। इसे अप्रैल 2016 में लॉन्च किया गया था।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,