किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी देश में सबसे पहले प्लाज्मा ट्रीटमेंट थेरेपी शुरू करेगी

27 अप्रैल, 2020 को उत्तर प्रदेश में किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी COVID -19 के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी शुरू करने वाला पहला सरकारी अस्पताल बन गया है। हाल ही में एक 58 वर्षीय मरीज को प्लाज्मा थेरेपी की पहली खुराक दी गई।

मुख्य बिंदु

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने हाल ही में प्लाज्मा थेरेपी के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी जो ICMR द्वारा प्रस्तुत की गई थी। रिकवर हो चुके COVID-19 रोगियों से प्लाज्मा का उपयोग करने के लिए DGCI ने मंज़ूरी दी थी।

प्रक्रिया

COVID-19 से रिकवर हो चुके मरीज वायरस के खिलाफ IGM और IGG एंटीबॉडी उत्पन्न करते हैं। इन एंटीबॉडी का मूल्यांकन रैपिड टेस्ट के माध्यम से डोनर के नमूनों से किया जाता है। डोनर से एकत्र प्लाज्मा को उन रोगियों में स्थानांतरित किया जाता है जो वायरस के कारण गंभीर रूप से बीमार हैं।  डीजीसीआई ने एक आदेश पारित किया है जिसके अनुसार एक महीने में डोनर से 1000 मिलीलीटर से अधिक प्लाज्मा एकत्र नहीं किया जा सकता है।

वर्तमान परिदृश्य

दिल्ली, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने प्लाज्मा थेरेपी उपचार का उपयोग करना शुरू कर दिया है। हालांकि, किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी उपचार में इस थेरेपी का उपयोग करने वाला पहला सरकारी अस्पताल  है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,