केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड : भारत और कुवैत के बीच डबल टैक्सेशन अवॉइडेंस एग्रीमेंट में संशोधन प्रोटोकॉल को अधिसूचित किया गया

केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने भारत और कुवैत के बीच मौजूदा डबल टैक्सेशन अवॉइडेंस एग्रीमेंट (डीटीएए) में संशोधन से जुड़े प्रोटोकॉल को अधिसूचित किया है। जून 2006 में दोनों देशों के बीच डीटीएए पर दोहरे कराधान से बचने और आय पर करों के संबंध में राजकोषीय चोरी की रोकथाम के लिए हस्ताक्षर किए गए थे।

मुख्य तथ्य

यह प्रोटोकॉल डीटीएए 2018 में लागू किया गया था। यह अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुसार सूचना के आदान-प्रदान के लिए डीटीएए में प्रावधानों को परिवर्तित करता है। इसके अलावा, यह अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों , सक्षम प्राधिकारियों के प्राधिकरण के साथ कर उद्देश्यों के लिए कुवैत से प्राप्त जानकारी साझा करने में सक्षम बनाता है।

डीटीएए के लाभ

इससे करदाताओं को एक ही आय पर दोहरे करों का भुगतान नहीं करना पड़ता है। यह टैक्स क्रेडिट तथा करों से कुछ छूट प्रदान करता है। यह किसी भी या दोनों देशों में करदाताओं के लिए कर चोरी के अवसर को भी कम करता है, जिनके बीच इससे जुड़े द्विपक्षीय और बहुपक्षीय डीटीएए समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,