जम्मू-कश्मीर : चेनानी नाशरी सुरंग का नाम डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर रखा जायेगा

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने हाल ही में कहा है कि जम्मू और कश्मीर को आपस में जोड़ने वाली सुरंग ‘चेनानी नाशरी’ का नाम भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर पर रखा जायेगा। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 2017 में 9.2 किलोमीटर लम्बी इस सुरंग को राष्ट्र को समर्पित किया था। गौरतलब है कि इस सुरंग के कारण जम्मू और श्रीनगर के बीच की दूरी में 31 किलोमीटर की कमी आती है। यह सुरंग नेशनल हाईवे-44 पर स्थित है।

श्यामा प्रसाद मुखर्जी

श्यामा प्रसाद मुखर्जी एक राजनेता, शिक्षाविद व बैरिस्टर थे, उनका जन्म 6 जुलाई, 1901 को कलकत्ता में हुआ था। वे पंडित जवाहरलाल नेहरु की सरकार में उद्योग व आपूर्ति मंत्री थे। जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर पंडित नेहरु से मतभेद होने के कारण वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से अलग हुए। 1951 में उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सहायता से भारतीय जनसंघ की स्थापना की, जिससे बाद में भारतीय जनता पार्टी अस्तित्व में आई। गौरतलब है कि डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने अनुच्छेद 370 कड़ा विरोध किया था, इस संदर्भ में उन्होंने कहा था “एक देश में दो विधान, दो प्रधान और दो निशान नहीं चलेंगे”। इसके विरोध में डॉ. मुखर्जी 1953 में कश्मीर गये और भूख हड़ताल की। 19 उनका निधन 23 जून, 1953 में जम्मू-कश्मीर में हिरासत में रहस्यमय परिस्थितयों में हुआ था।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,