जावेद अख्तर : रिचर्ड डॉकिन्स पुरस्कार प्राप्त करने वाले पहले भारतीय

भारतीय कवि व लेखक जावेद अख्तर 2020 के लिए प्रतिष्ठित रिचर्ड डॉकिंस पुरस्कार प्राप्त करने वाले पहले भारतीय बन गए हैं। इस पुरस्कार का नाम अंग्रेजी विकासवादी जीवविज्ञानी रिचर्ड डॉकिंस के नाम पर रखा गया है। यह विज्ञान, शिक्षा या मनोरंजन के क्षेत्रों के उन लोगों को प्रदान किया जाता है, जो सार्वजनिक रूप से धर्मनिरपेक्षता, तर्कसंगतता और वैज्ञानिक सत्य को बढ़ावा देते हैं। इस पुरस्कार का पहला संस्करण वर्ष 2003 में प्रदान किया गया था।

जावेद अख्तर

जावेद अख्तर भारतीय फिल्म उद्योग में एक प्रसिद्ध गीतकार हैं। उन्हें 1999 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। उन्होंने साहित्य अकादमी पुरस्कार और पद्म भूषण भी जीता है।  उल्लेखनीय है कि जावेद अख्तर ने सोशल मीडिया, साहित्यिक आयोजनों और नागरिकता संशोधन अधिनियम, सार्वजनिक नीति, लॉकडाउन के बाद शराब की दुकानों को फिर से खोलने, समाज में साम्यवाद आदि मुद्दों पर अपनी मुखर राय व्यक्त की है।

रिचर्ड डॉकिन्स पुरस्कार

यह पुरस्कार एथीस्ट अलायन्स ऑफ़ अमेरिका (एक एनजीओ) द्वारा प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार उन प्रतिष्ठित व्यक्तियों को प्रदान किए जाते हैं जो विज्ञान, शिक्षा या पर्यावरण की सम्बंधित हैं और तर्कसंगतता, धर्मनिरपेक्षता के वैज्ञानिक सत्य को बनाए रखने के मूल्यों के लिए कार्य करते हैं।

रिचर्ड डॉकिंस एक नैतिकतावादी, लेखक और एक विकासवादी जीवविज्ञानी हैं। एथीस्ट अलायन्स इंटरनेशनल एक गैर-लाभकारी संगठन है जो जागरूकता पैदा करता है और नास्तिकता के बारे में लोगों को शिक्षित करता है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,