जुलाई 2018 में कोर औद्योगिक उत्पादन दर रही 6.6%

केन्द्रीय वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय द्वारा जारी किये गए डाटा के अनुसार जुलाई जून में 8 कोर उद्योगों की उत्पादन दर 6.6% रही। यह सीमेंट, रिफाइनरी, उर्वरक और कोयला सेक्टर के अच्छे प्रदर्शन के कारण बेहतर रही। जुलाई, 2017 में यह दर 2.9% थी।

मुख्यबिंदु

जुलाई, 2018 में कोयला, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक तथा सीमेंट में क्रमशः 9.7%, 12 .3%, 1.3% तथा 10.8% की वृद्धि दर्ज की गयी। जुलाई, 2018 में कच्चा तेल तथा प्राकृतिक गैस के उत्पादन में कमी आई। जुलाई, 2017 के मुकाबले स्टील सेक्टर की वृद्धि दर कम होकर 9.4% से कम होकर 6% पर पहुँच गयी। अप्रैल-जुलाई, 2018 के दौरान 8 कोर औद्योगिक सेक्टर की विकास दर 5.8% रही, इससे पिछले वर्ष यह दर 2.6% थी। जून, 2018 में इन सेक्टर्स की विकास दर 7.6% थी, यह मार्च 2017 के बाद का उच्चतम स्तर था।

कोर उद्योग

कोर उद्योग वह उद्योग होते हैं जो किसी अभी अर्थव्यवस्था के मुख्य उद्योग होते हैं और अर्थव्यवस्था में उनका हिस्सा काफी बड़ा होता है। भारत में आठ कोर उद्योग हैं : कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, स्टील, सीमेंट व बिजली। यह कोर उद्योग औद्योगिक उत्पादन के सूचकांक का 40.27% हिस्सा हैं।

कोर सेक्टर का भार : पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्पाद (28.04%), विद्युत् उत्पादन (19.85%), स्टील उत्पादन (17.92%), कोयला उत्पादन (10.33%), कच्चा तेल उत्पादन (8.98%), प्राकृतिक गैस उत्पादन (6.88%), सीमेंट (5.37%), उर्वरक (2.63%)।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , ,