भारतीय नौसेना में पहले DSRV वेसल को शामिल किया गया

भारतीय नौसेना में पहले DSRV (Deep Submergence Rescue Vessel) वेसल को शामिल किया गया। इसके साथ ही भारत उन चुनिन्दा देशों की श्रेणी में शामिल हो गया है जिनके पास यह आधुनिक वेसल हैं। वर्तमान में अमेरिका, चीन, रूस, जापान, दक्षिण कोरिया, यूनाइटेड किंगडम, स्वीडन तथा ऑस्ट्रेलिया के पास DSRV हैं। DSRV (Deep Submergence Rescue Vessel) वेसल के द्वारा आपातकालीन स्थिति में पनडुब्बी की खोज व बचाव कार्य किया जाता है।

DSRV

DSRV वेसल (Deep Submergence Rescue Vessel) का उपयोग डूबी (दुर्घटनाग्रस्त) पनडुब्बियों से सैनिकों को बचाने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग कई अन्य कार्यों जैसे महासागरीय तट में केबल बिछाने इत्यादि के लिए भी किया जाता है।

मुख्य बिंदु

इस DSRV वेसल (Deep Submergence Rescue Vessel) मुंबई के नौसैनिक अड्डे पर रखा गया है, मुसीबत में पनडुब्बी के बचाव के लिए इस वेसल को हवा, पानी अथवा ज़मीन किसी भी मार्ग से घटनास्थल पर पहुँचाया जा सकता है। इसके अलावा दूसरे DSRV वेसल (Deep Submergence Rescue Vessel) को 2019 में विशाखापत्तनम में शामिल किया जायेगा।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,