भारतीय भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण ने देश भर में 22 जीपीएस स्टेशनों की स्थापना की

भारतीय भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण ने देश भर में 22 जीपीएस स्टेशनों की स्थापना की। इन स्टेशनों का उपयोग भूकंप की दृष्टि से खतरनाक क्षेत्रों की पहचान करने के लिए किया जाएगा, इससे मानचित्रण गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा।

भूमिसंवाद : खनन मंत्रालय ने भू-वैज्ञानिकों, विश्वविद्यालय तथा महाविद्यालय के छात्रों के बीच संवाद के लिए भूमिसंवाद नामक एप्प लांच की।

जीपीएस स्टेशन

22 जीपीएस स्टेशनों की स्थापना निम्नलिखित स्थानों पर की गयी है : कलकत्ता, तिरुवनंतपुरम, जयपुर, पुणे, देहरादून, चेन्नई, जबलपुर, भुबनेश्वर, पटना, रायपुर, भोपाल, चंडीगढ़, गांधीनगर, विशाखापट्नम, अगरतला, ईटानगर मंगन, जम्मू, लखनऊ, नागपुर, शिलोंग तथा लिटिल अंदमान।

इसके अतिरिक्त 13 अन्य जीपीएस स्टेशनों की स्थापना अग्रलिखित स्थानों पर की जायेगी : आइजोल, फरीदाबाद, उत्तरकाशी, पिथोरागढ़, कूचबिहार, ज़वर, नार्थ अंडमान, मिडिल अंडमान, साउथ अंडमान, रांची, मंगलोर, इम्फाल तथा चित्रदुर्गा।

भारतीय भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण

भारतीय भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण की स्थापना 1851 में की गयी थी, शुरू में इसकी स्थापना रेलवे के लिए कोयले के भंडार खोजने के लिए की गयी थी। वर्षों के पश्चात् अब GSI भूविज्ञान सूचना का एक विशाल भंडार बन गया है। यह एक अंतर्राष्ट्रीय स्तर के भू-विज्ञानिक संगठन के रूप में उभर कर आया है।

यह संगठन केन्द्रीय खनन मंत्रालय के साथ कार्य करता है। यह राष्ट्रीय भू-विज्ञानिक सूचना का एकत्रीकरण तथा अपडेट करने का कार्य करता है। यह ज़मीनी सर्वेक्षण, हवाई व समुद्री सर्वेक्षण के द्वारा खनिज संसाधन का आकलन करता है। इसके अतिरिक्त यह भूकंप गतिविधियों का अध्ययन, प्राकृतिक आपदा का अध्ययन, हिमखंड विज्ञान इत्यादि विभिन्न विषयों पर अध्ययन करता है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,