भारत और नेपाल ने जोगबनी-बिराटनगर सीमा पर इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट का उद्घाटन किया

भारतीय प्रधानमंत्री और नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली ने भारत और नेपाल के बीच जोगबनी-बिराटनगर सीमा पर इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट का उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री मोदी ने विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से इस चेक पोस्ट का उद्घाटन किया। यह ऐसा दूसरा इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट है जिसका निर्माण भारत की सहायता से किया गया है। पहली इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट का निर्माण रक्सौल-बिरगुंज सीमा पर 2018 में किया गया था।

इस चेक पोस्ट का निर्माण 260 एकड़ भूमि पर किया गया है, इसके निर्माण के लिए भारत ने 140 करोड़ रुपये की सहायता दी है।

चेक पोस्ट से यात्रियों तथा सामान की आवाजाही के लिए बेहतर सीमा प्रबंधन सुनिश्चित होता है।

इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट क्या है?

इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट भारत की सीमा पर व्यापार सहायता केंद्र हैं। यह केंद्र द्विपक्षीय व्यपार को बढ़ावा देते हैं तथा सीमा पर लोगों की आवाजाही में सहायता करते हैं।

भारत में कुल 7 इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट हैं, भारत सरकार 14 अन्य इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट के निर्माण की योजना बना रही है। सीमा पर भारत की इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट निम्नलिखित हैं :

भारत-पाकिस्तान : राजस्थान और पंजाब

भारत-म्यांमार : मणिपुर और मिजोरम

भारत-भूटान : पश्चिम बंगाल

भारत-बांग्लादेश : असम, मिजोरम, मेघालय, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,