भारत का पहला राष्ट्रीय पर्यावरण सर्वेक्षण 2019 में होगा शुरू

भारत का पहला राष्ट्रीय पर्यावरण सर्वेक्षण जनवरी, 2019 में शुरू होगा, इस सर्वेक्षण में देश के 24 राज्यों तथा 3 केंद्र शासित प्रदेशों के 55 जिलों पर्यावरणीय डाटा का एकत्रीकरण किया जायेगा। राष्ट्रीय पर्यावरण सर्वेक्षण में सभी जिलों को पर्यावरण सम्बन्धी पैरामीटर्स पर रैंकिंग दी जाएगी। इस सर्वेक्षण का पहला डाटा सेट 2020 में उपलब्ध होगा।

प्रथम राष्ट्रीय पर्यावरण सर्वेक्षण

भारत के इतिहास के पहले राष्ट्रीय पर्यावरण सर्वेक्षण को केन्द्रीय पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा किया जायेगा।  इस सर्वेक्षण के लिए ग्रिड-बेस्ड एप्रोच का उपयोग किया जायेगा, इसमें 9x 9 किलोमीटर के क्षेत्र का विस्तृत डाटा विभिन्न पर्यावरणीय पैरामीटर्स पर एकत्रित किया जायेगा।  इस सर्वेक्षण के प्रमुख पैरामीटर्स वायु, जल, मृदा गुणवत्ता, ई-कचरा, उत्सर्जन इन्वेंटरी, वन व वन्यजीव, वनस्पति, आर्द्रभूमि तथा जल स्त्रोत इत्यादि हैं। इस सर्वेक्षण में सभी जिलों के कार्बन अनुक्रमिक क्षमता का आकलन भी किया जायेगा।

महत्व

इस सर्वेक्षण से प्राप्त ग्रीन डाटा का उपयोग जिला, राज्य तथा राष्ट्रीय पर नीति निर्माताओं द्वारा नीति निर्माण के लिए किया जायेगा। आरम्भ में इस सर्वेक्षण में केवल 55 जिलों में कार्य किया जायेगा, बाद में देश के सभी जिलों में इस सर्वेक्षण को किया जायेगा। इस सर्वेक्षण कार्य के लिए प्रशिक्षित लोगों की आवश्यकता है, इसके लिए सर्वेक्षणकर्ताओं को केन्द्रीय पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के अंतर्गत ग्रीन स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम में प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , ,