भारत दूसरा सबसे बड़ा कच्चा इस्पात उत्पादक देश बना

फरवरी महीने में भारत कच्चे इस्पात उत्पादन में चीन के बाद दूसरे नंबर पर पहुंच गया है। विश्व इस्पात संघ के आंकड़ों के हवाले से स्टील यूजर्स फेडरेशन आफ इंडिया (सूफी) ने यह जानकारी दी। भारत जापान को पीछे छोड़कर दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा कच्चा इस्पात उत्पादक देश हो गया है। चीन कच्चे इस्पात उत्पादन में पहले स्थान पर है। चीन की हिस्सेदारी कुल वैश्विक उत्पादन में 50 प्रतिशत से अधिक है।

भारत का कच्चा इस्पात उत्पादन अप्रैल, 2017 से फरवरी, 2018 के दौरान इससे पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 4.4 प्रतिशत बढ़कर 9.31 करोड़ टन पर पहुंच गया। इसी वजह से भारत कच्चे इस्पात उत्पादन में जापान को पीछे कर सका है। 2015 में भारत अमेरिका को पछाड़कर तीसरा सबसे बड़ा कच्चा इस्पात उत्पादक बना था।

विश्व इस्पात संघ

यह एक गैर-लाभकारी संस्था है। बेल्जियम के ब्रुसेल्स में इसका मुख्यालय स्थित है। इसका दूसरा मुख्यालय बीजिंग (चीन) में है। 10 जुलाई, 1967 को वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन (वर्ल्ड स्टील) की स्थापना इंटरनेशनल आयरन एंड स्टील इंस्टीट्यूट के रूप में की गई थी ।इसका नाम बदलकर वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन 6 अक्तूबर, 2008 को कर दिया गया। वर्ल्ड स्टील, 160 से अधिक इस्पात उत्पादकों (दुनिया की 10 सबसे बड़ी स्टील कंपनियों में से 9 सहित), राष्ट्रीय और क्षेत्रीय इस्पात उद्योग संघों और इस्पात अनुसंधान संस्थानों का प्रतिनिधित्व करता है। वर्ल्ड स्टील के सदस्य 85% विश्व इस्पात उत्पादन का प्रतिनिधित्व करते हैं।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,