रामायण सर्किट के तहत जनकपुर (नेपाल) और अयोध्या (भारत) के बीच बस सेवा की शुरुआत की गई

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और उनके नेपाली समकक्ष केपी शर्मा ओली ने संयुक्त रूप से जनकपुर (नेपाल) और अयोध्या (भारत) के बीच सीधी बस सेवा का उद्घाटन किया। नेपाल और भारत में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने हेतु स्वदेश दर्शन योजना के तहत भारत के रामायण सर्किट के भाग के रूप में यह बस सेवा शुरू की गई है ।

मुख्य तथ्य

प्रधान मंत्री मोदी ने हिंदू देवी सीता को समर्पित 20 वीं शताब्दी के जानकी मंदिर से बस सेवा को प्रारंभ किया , जहां उन्होंने विशेष प्रार्थना की थी । जनकपुर भगवान राम की पत्नी सीता के जन्म स्थान के रूप में जाना जाता है। जानकी मंदिर 1910 में माता सीता की याद में बनाया गया था। यह पूरी तरह से पत्थर और संगमरमर से बनी तीन मंजिला संरचना है यह 50 मीटर ऊंचा तथा 4,860 वर्ग फुट से अधिक फैला है। नेपाल में भारत की तरफ से यह प्रधानमंत्री मोदी की नेपाल की तीसरी तथा नई ओली सरकार के गठन के बाद से पहली उच्चस्तरीय यात्रा थी।

रामायण सर्किट के तहत 15 धार्मिक शहर

सरकार ने स्वदेश दर्शन योजना के तहत रामायण सर्किट विषय के तहत विकास हेतु भारत में 15 धार्मिक शहरों की पहचान की है। जिनमे अयोध्या, नंदीग्राम, श्रृंगपुरपुर और चित्रकूट (उत्तर प्रदेश), सीतामढ़ी, बक्सर और दरभंगा (बिहार), चित्रकूट (मध्य प्रदेश), जगदलपुर (छत्तीसगढ़), महेंद्रगिरी (ओडिशा), नासिक और नागपुर (महाराष्ट्र), भद्रचलम (तेलंगाना) , हम्पी (कर्नाटक) और रामेश्वरम (तमिलनाडु) शामिल हैं ।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,