लेखक प्रोफेसर क़ाज़ी अब्दुल सत्तार का हुआ निधन

क़ाज़ी अब्दुल सत्तार उत्तर प्रदेश के उर्दू लेखक व अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय में उर्दू विभाग के प्रमुख थे, 29 अक्टूबर, 2018 को उनका निधन नई दिल्ली में 85 वर्ष की आयु में हुआ। उनका जन्म उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में 1933 में हुआ था।

क़ाज़ी अब्दुल सत्तार

वे 1954 में अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय से अनुसंधानकर्ता के रूप में जुड़े थे। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत लघु कथा लेखक के रूप में की थी। उनकी प्रसिद्ध लघु कथा “पीतल का घंटा” थी। उनकी शुरूआती रचनाएँ अवध क्षेत्र में ज़मींदारी के कम होते प्रभाव पर आधारित थी। बाद में उन्होंने ऐतिहासिक घटनाओं पर उपन्यास लिखे। उनकी प्रमुख रचनाएँ “दाराशिकोह” “खालिद बिन वालिद” तथा “ग़ालिब” हैं। उन्हें 1974 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 1978 में उन्हें ग़ालिब अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया, वे इस पुरस्कार को प्राप्त करने वाले पहले व्यक्ति थे।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , ,