लेजर साइंस एंड टेक्नोलॉजी सेंटर ने ‘यूवी ब्लास्टर’ नामक अल्ट्रा वायलेट कीटाणुशोधन टॉवर विकसित किया

नई दिल्ली स्थित लेजर साइंस एंड टेक्नोलॉजी सेंटर (डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन की एक प्रयोगशाला) ने गुड़गांव स्थित एक निजी फर्म के साथ मिलकर ‘यूवी ब्लास्टर’ नाम से एक अल्ट्रा वायलेट (यूवी) कीटाणुशोधन टॉवर विकसित किया है।

मुख्य बिंदु

इस उपकरण का उपयोग प्रयोगशालाओं में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, कंप्यूटर और अन्य गैजेट्स के कीटाणुशोधन के लिए किया जाता है, जिन्हें पारंपरिक रासायनिक तरीकों से कीटाणुरहित नहीं किया जा सकता है। यह उन स्थानों पर भी स्थापित किया जा सकता है जहां मॉल, होटल और कार्यालयों सहित बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा होते हैं।

रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन (DRDO)

रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन (DRDO) की स्थापना 1958 में की गयी थी, इसका मुख्यालय नई दिल्ली के DRDO भवन में स्थित है। यह भारत सरकार की एजेंसी है। यह सैन्य अनुसन्धान तथा विकास से सम्बंधित कार्य करता है। DRDO का आदर्श वाक्य “बलस्य मूलं विज्ञानं” है। DRDO में 30,000 से अधिक कर्मचारी कार्य करते हैं। वर्तमान में DRDO के चेयरमैन डॉ. जी. सतीश रेड्डी हैं। DRDO का नियंत्रण केन्द्रीय रक्षा मंत्रालय के पास है। DRDO के पास 52 प्रयोगशालाओं का नेटवर्क है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,