वित्त मंत्रालय ने समावेशी परियोजना के लिए विश्व बैंक के साथ एक ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किये

वित्त मंत्रालय ने समावेशी परियोजना के लिए भारत में नवाचार (innovation) को बढावा देने हेतु विश्व बैंक से लगभग 125 यूएस डॉलर के आईबीआरडी क्रेडिट (IBRD credit of US$ 125) ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। इस परियोजना का उद्देश्य स्वदेशी नवाचार को बढ़ावा देना, स्थानीय उत्पाद विकास को बढ़ावा देना और भारत में जैव चिकित्सा , चिकित्सा उपकरणों के उद्योग की व्यावसायीकरण प्रक्रिया में तेजी लाना है।

समावेशी परियोजना

यह परियोजना समावेशी विकास और भारत में प्रतिस्पर्धा बढ़ाने हेतु किफायती और अभिनव (innovative) हेल्थकेयर उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण कौशल और आधारभूत संरचना को विकसित कर अपना उद्देश्य हासिल करना चाहती हैं। परियोजना वर्तमान में भारत में अभिनव (innovative) बायोफर्मास्यूटिकल और चिकित्सा उपकरणों के उद्योग के विकास हेतु बाजार विफलताओं की समस्या को दूर करने के साथ साथ सार्वजनिक निजी और शैक्षिक संस्थानों के संघ का सहयोग करेगी। परियोजना प्रबंधन , निगरानी ,मूल्यांकन के लिए बाजार प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए परियोजना के घटक (components) पायलट-बाजार नवाचार तंत्र की स्थिति (pilot-to market innovation ecosystem ) को मजबूत कर रही हैं। परियोजना की समाप्ति तिथि जून 2023 रखी गयी है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,