संगीता वर्मा को भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग का सदस्य नियुक्त किया गया

पूर्व भारतीय आर्थिक सेवा (IES) अधिकारी संगीता वर्मा को हाल ही में प्रतिस्पर्धा आयोग का नया सदस्य नियुक्त किया गया है। वे पांच वर्ष तक अथवा अगले आदेश आने तक इस आयोग की सदस्य बनीं रहेंगी। अब भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग की सभी रिक्तियां भर ली गयी हैं। वर्तमान में भारतीय प्रतिस्पर्धा के चेयरपर्सन अशोक कुमार गुप्ता हैं तथा इसके सदस्य संगीता वर्मा, ऍगस्टीन पीटर व यू.सी. मेहता हैं। अप्रैल में केन्द्रीय कैबिनेट ने भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग के सदस्यों की संख्या को 6 से घटाकर 3 कर दिया था।

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (Competition Commission of India)

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग एक अर्ध-न्यायिक संवैधानिक संस्था है, इसकी स्थापना प्रतिस्पर्धा अधिनियम, 2002 के तहत की गयी थी। इसकी स्थापना अक्टूबर, 2003 में हुई थी, इसने मई, 2009 में पूर्ण रूप से कार्य करना शुरू किया था। प्रतिस्पर्धा अधिनियम, 2002 के अनुसार इस आयोग का एक अध्यक्ष तथा न्यूनतम दो तथा अधिकतम 6 सदस्य होंगे। वर्तमान में भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग के 4 सदस्य तथा एक अध्यक्ष हैं। यह आरम्भ से कॉलेजियम के रूप में कार्य कर रहा है। यह आयोग कॉर्पोरेट मामले मंत्रालय के अधीन कार्य करता है।

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग का उद्देश्य प्रतिस्पर्धा को बुरे तरीके से प्रभावित करने वाले कारकों को रोकथाम, ग्राहकों के हितों की सुरक्षा तथा मुक्त व्यापार सुनिश्चित करना है। यह किसी संवैधानिक संस्था को प्रतिस्पर्धा सम्बन्धी मामले में अपनी राय भी प्रदान करता है। यह आयोग प्रतिस्पर्धा सम्बन्धी मामले में जागरूकता फैलाने का कार्य भी करता है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , , , ,