सरकार ने विदेशी छात्रों को आकर्षित करने के लिए ‘भारत में अध्ययन’ (Study in India) कार्यक्रम शुरू किया

विदेश मंत्रालय के सहयोग से मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) ने भारत में उच्च शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए विदेशी छात्रों को आकर्षित करने के लिए भारत में अध्ययन (Study in India) कार्यक्रम को मंजूरी दे दी है। यह कार्यक्रम ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया, सिंगापुर और कनाडा द्वारा शुरू की गई पहल के समान है। इसका लक्ष्य देश में अंतरराष्ट्रीय छात्रों को शिक्षा हेतु बढ़ावा देना तथा भारतीय शैक्षणिक संस्थानों की वैश्विक प्रतिष्ठा और रैंकिंग में सुधार करना है।

उद्देश्य

o उच्च शिक्षा के लिए भारत को चुनने के लिए अधिक विदेशी छात्रों को प्रोत्साहित करना ।
o वैश्विक शिक्षा निर्यात में भारत का हिस्सा 1% से 2% तक करना।
o भारतीय शैक्षणिक संस्थानों की वैश्विक रैंकिंग में सुधार करना।

पृष्ठभूमि

वर्तमान में, सरकार उच्च शिक्षा में विदेशी छात्रों के लिए 10% से 15% सीटों के प्रावधान की अनुमति देती है। यह प्रावधान विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में काफी हद तक कम है। वर्तमान में, भारत देश में शिक्षा हेतु 45,000 अंतर्राष्ट्रीय छात्रों का हिस्सेदार है, जो वैश्विक छात्र हिस्सेदारी का सिर्फ 1% है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,