सर्वोच्च न्यायालय ने क्रिप्टोकरेंसी पर लगी रोक को हटाया

सर्वोच्च न्यायालय ने क्रिप्टोकरेंसी पर लगी रोक को हटा दिया है। इससे पहले भारतीय रिज़र्व बैंक ने अप्रैल, 2018 क्रिप्टोकरेंसी के व्यापार पर रोक लगायी थी। हाल ही में देश के सर्वोच्च न्यायालय ने आरबीआई के आदेश को ख़ारिज कर दिया है।

गौरतलब है कि भारत सरकार क्रिप्टोकरेंसी के क्रय, विक्रय, वितरण, माइनिंग पर रोक लगाने के लिए ड्राफ्ट बिल तैयार कर चुकी है।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की वर्चुअल मुद्रा है। यह मुद्रा भौतिक रूप में उपलब्ध नहीं होती, यह केवल आभासी मुद्रा (वर्चुअल करेंसी) है। इसका उपयोग लेन-देन के लिए किया जाता है। इसके लिए ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता है। बिटकॉइन, इथीरियम, रिप्पल, लाइटकॉइन इत्यादि कुछ प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी हैं। बिटकॉइन को विश्व की पहली क्रिप्टोकरेंसी माना जाता है, इसकी शुरुआत वर्ष 2009 में हुई थी।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,