हिंदी करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तरी : 8 फरवरी,2019

1. राष्ट्रीय पुलिस मिशन के सूक्ष्म मिशन के द्वितीय सम्मेलन का आयोजन किस शहर में किया जा रहा है?
उत्तर – नई दिल्ली
नई दिल्ली में 7 फरवरी, 2019 को राष्ट्रीय पुलिस मिशन के सूक्ष्म मिशन के द्वितीय सम्मेलन का आरम्भ हुआ। इसका आयोजन पुलिस अनुसन्धान व विकास ब्यूरो द्वारा किया जा रहा है। इस दो दिवसीय सम्मेलन में पुलिस के कौशल, व्यवहारिक परिवर्तन, लैंगिक संवेदनशीलता, तकनीक के उपयोग तथा सामुदायिक पुलिसिंग जैसे मुद्द्रों पर चर्चा की जायेगी। इस दौरान 9 अफसरों को सूक्ष्म मिशन में योगदान तथा प्रोजेक्ट्स के सफल क्रियान्वयन के लिए सम्मानित किया जायेगा। पुलिस अनुसन्धान व विकास ब्यूरो के राष्ट्रीय पुलिस मिशन डिवीज़न का उद्देश्य देश के पुलिस बल में परिवर्तन लाकर देश की आन्तरिक सुरक्षा को सुदृढ़ बनाना है। इस लक्ष्य की पूर्ती के लिए पुलिस अनुसन्धान व विकास ब्यूरो के अंतर्गत 8 सूक्ष्म मिशन कार्य कर रहे हैं। पुलिस अनुसन्धान व विकास ब्यूरो राष्ट्रीय पुलिस मिशन के वार्षिक सम्मेलन का आयोजन करता है।
2. हाल ही में कैबिनेट द्वारा गायों के संरक्षण व विकास के लिए किस आयोग की स्थापना को मंज़ूरी दी गयी है?
उत्तर – राष्ट्रीय कामधेनु आयोग
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय कैबिनेट ने राष्ट्रीय कामधेनु आयोग की स्थापना को मंज़ूरी दे दी है। इसका उद्देश्य गायों के विकास, सुरक्षा तथा संरक्षण के लिए कार्य करना है। इस आयोग की स्थापना की घोषणा अंतरिम बजट 2019-20 के दौरान की गयी थी।
• यह आयोग वेटरनरी, पशु विज्ञान, कृषि विश्वविद्यालय तथा केंद्र व राज्य सरकारों के विभागों व संगठनों के साथ मिलकर कार्य करेगा।
• इससे छोटे व सीमान्त किसानों तथा महिलाओं को काफी लाभ होगा।
• इससे देश में गायों के संरक्षण तथा विकास के लिए नीति फ्रेमवर्क के निर्माण को बल मिलेगा।
• यह आयोग गायों के कल्याण के लिए निर्मित नियमों के उचित क्रियान्वयन को भी सुनिश्चित करेगा।
3. भारत में वस्त्र उपयोग का अध्ययन करने के लिए केंद्र सरकार ने कौन सी परियोजना शुरू की है?
उत्तर – इंडिया साइज़ परियोजना
केन्द्रीय कपड़ा मंत्री समृति ईरानी ने मुंबई में “इंडिया साइज़” परियोजना को लांच किया। यह देश में इस प्रकार की पहली परियोजना है। इसका उद्देश्य रेडी-टू-वियर कपडा उद्योग के लिए भारतीय मानक आकार का निर्माण करना है। अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम तथा मेक्सिको में इस प्रकार के मानक साइज़ होते हैं। भारतीय ग्राहकों के माप के मुताबिक विशिष्ट साइज़ चार्ट विकसित किया जाएगा। इसके लिए देश भर से विभिन्न आयु वर्ग के 25,000 से अधिक लोगों का विश्लेषण किया जाएगा, इसके तहत मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, हैदराबाद, कलकत्ता तथा शिलोंग के लोगों को शामिल किया जाएगा। इसमें देश के सभी महत्वपूर्ण क्षेत्रों को शामिल किया जाएगा। इस परियोजना का क्रियान्वयन केन्द्रीय कपड़ा मंत्रालय तथा भारतीय वस्त्र निर्माता संघ (CMAI) द्वारा किया जाएगा। इस अवसर पर समृति ईरानी ने भारत में कपड़े के उपयोग पर एक रिपोर्ट लांच की। इस अध्ययन रिपोर्ट को जुलाई, 2019 में जारी किया जायेगा।
4. हाल ही में किस देश ने नाटो में शामिल होने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किये?
उत्तर – मैसिडोनिया
यूरोपीय देश मैसिडोनिया ने नाटो में शामिल होने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किये। इसके साथ ही मैसिडोनिया नाटो का 30वां सदस्य बनेगा।
मैसिडोनिया
मैसिडोनिया गणराज्य दक्षिण-पूर्व यूरोप में स्थित देश है। मैसिडोनिया ने 1991 में यूगोस्लाविया से स्वतंत्रता की घोषणा की थी। फरवरी, 2019 में इसका नाम बदलकर उत्तरी मैसिडोनिया किया जायेगा। मैसिडोनिया की राजधानी स्कोप्ये में स्थित है। इसका क्षेत्रफल 25,713 वर्ग किलोमीटर है। इसकी मुद्रा मैसिडोनियाई दीनार है।
नाटो (North Atlantic Treaty Organization)
इसकी स्थापना 4 अप्रेल 1949 को हुई थी। इसका मुख्यालय ब्रुसेल्स, बेल्जियम में है। आरम्भ में नाटो के सदस्यों की संख्या 12 थी, अब यह सदस्य संख्या 29 देश है। नाटो का सबसे नया सदस्य मोंटेनीग्रो है, यह 5 जून, 2017 को नाटो का सदस्य बना था। नाटो के सभी सदस्यों की संयुक्त सैन्य खर्च दुनिया के रक्षा व्यय का 70% से अधिक है, जिसका संयुक्त राज्य अमेरिका अकेले दुनिया का कुल सैन्य खर्च का आधा हिस्सा खर्च करता है और ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी और इटली 15% खर्च करते हैं।
5. 462वें कंदूरी उत्सव 2019 का आरम्भ किस राज्य में हुआ?
उत्तर – तमिलनाडु
तमिलनाडु में नागोर दरगाह के निकट 462वें वार्षिक कंदूरी उत्सव 2019 का आरम्भ हुआ। यह उत्सव 14 दिन तक चलेगा। इस उत्सव को हज़रत सैय्यद शाहुल हमीद कादिर वली की मृत्यु की सालगिरह की स्मृति में मनाया जाता है। हज़रत सैय्यद शाहुल हमीद कादिर वली उत्तर प्रदेश के इलाहबाद से नागोर में जाकर बस गये थे। हज़रत सैय्यद शाहुल हमीद कादिर वली की दरगाह 500 वर्ष से अधिक पुरानी है।
6. 2018-19 के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक की 6वीं द्वि-मासिक मौद्रिक नीति में रेपो रेट को कितना रखा गया है?
उत्तर – 6.25
आरबीआई की छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति ने रेपो रेट (अल्पकालिक उधार दर) में 25 बेसिस पॉइंट्स की कमी के साथ 6.25% पर रखा है। यह निर्णय RBI गवर्नर शक्तिकांत दस की अध्यक्षता में 6 सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति द्वारा लिया गया है।
अन्य निर्णय
• किसानों के लिए जमानत मुक्त ऋण की सीमा को 1 लाख रुपये से बढ़ाकर 1.6 लाख रुपये कर दिया गया है।
• बैंकों को बड़ी मात्रा में जमा (बल्क डिपाजिट) पर ब्याज दर देने के लिए ऑपरेशनल स्वतंत्रता।
• बड़ी मात्रा में जमा (बल्क डिपाजिट) की परिभाषा को 1 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 2 करोड़ रुपये कर दिया गया है।
रेपो दर
रेपो दर, वह दर है जिस पर आरबीआई छोटी समयावधि के लिए बैंकों को ऋण देता है। यह RBI द्वारा बैंकों से सरकारी बांड खरीदकर एक निश्चित दर पर उन्हें बेचने के लिए एक समझौते के साथ किया जाता है। जब भारतीय रिजर्व बैंक रेपो दर बढ़ाता है, तो बैंक को उच्च दरों पर ऋण देना पड़ता है। अत: कहा जा सकता है कि रेपो दर का बढ़ना बाजारों में ब्याज दरों में वृद्धि होने का एक कारण है।
7. परमाणु टेक 2019 का आयोजन किस शहर में किया गया?
उत्तर – नई दिल्ली
विदेश मामले मंत्रालय तथा परमाणु उर्जा विभाग ने हाल ही में परमाणु टेक सम्मेलन का आयोजन किया। परमाणु टेक 2019 में परमाणु उर्जा तथा अन्तरिक्ष मामले के राज्य मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह ने संबोधन दिया।
डॉ. जितेन्द्र सिंह के संबोधन के मुख्य बिंदु निम्नलिखित हैं :
• शांति कार्य के लिए परमाणु उर्जा के उपयोग पर आधारित डॉ. होमी भाभा द्वारा शुरू किया गया परमाणु उर्जा कार्यक्रम काफी आगे पहुँच गया है।
• भारत ने अन्तरिक्ष तकनीक तथा परमाणु उर्जा के क्षेत्र में विशिष्ट स्थान हासिल किया है।
• भारत सदैव तकनीक का प्रयोग केवल रचनात्मक कार्यों के लिए ही करता है।
• परमाणु उर्जा के लाभों से लोगों को अवगत करवाने के लिए जागरूकता अभियान चलाने की आवश्यकता है।
• भविष्य में जब उर्जा के अन्य स्त्रोत समाप्त हो रहे होंगे तब परमाणु उर्जा, उर्जा का बड़ा तथा सस्ता स्त्रोत बन जायेगा।
परमाणु टेक 2019 में सत्र
स्वास्थ्य सुरक्षा : नाभिकीय औषधि तथा रेडिएशन थेरेपी – केयर टू क्योर
भोजन संरक्षण, कृषि तथा औद्योगिक उपयोग : खेत से कारखाने तक – राष्ट्रीय के लिए कार्यरत्त
परमाणु उर्जा क्षेत्र में भारत की क्षमता का प्रदर्शन : पर्यावर्णीय जवाबदेही के साथ उर्जा सुरक्षा
विदेश मामले मंत्रालय तथा परमाणु उर्जा विभाग ने हाल ही में परमाणु टेक सम्मेलन का आयोजन किया। परमाणु टेक 2019 में परमाणु उर्जा तथा अन्तरिक्ष मामले के राज्य मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह ने संबोधन दिया।
8. हाल ही में किस राज्य/केंद्र शासित प्रदेश ने जीरो फेटेलिटी कॉरिडोर लांच किया?
उत्तर – दिल्ली
दिल्ली सरकार ने जीरो फेटेलिटी कॉरिडोर (शून्य मृत्यु गलियारा) लांच किया। इसका उद्देश्य दुर्घटनाओं पर रोक लगाना है। इसकी घोषणा दिल्ली के परिवहन मंत्री ने सड़क सुरक्षा सप्ताह के उद्घाटन समारोह के दौरान की।
जीरो फेटेलिटी कॉरिडोर
• आउटर रिंग पर भलस्वा चौक से बुराड़ी चौक के बीच 3 किलोमीटर के क्षेत्र को अध्ययन के लिए चुना गया है।
• चुने गये स्थान में चार ब्लैकस्पॉट्स हैं : बुराड़ी चौक, भलस्वा चौक, मुकुंदपुर चौक तथा जहांगीरपुरी बस स्टैंड।
• सड़क दुर्घटना, सड़क इंजीनियरिंग तथा रोड-यूजर इंगेजमेंट के आधार इस तील किलोमीटर के क्षेत्र का अध्ययन किया जायेया।
• इस दौरान इस स्थान पर पर्याप्त सुरक्षा भी उपलब्ध करवाई जायेगी तथा आपातकालीन सहायता भी उपलब्ध होगी।
इस पहल को परिवहन, स्वास्थ्य, शिक्षा, लोक निर्माण विभाग तथा दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के सहयोग से शुरू किया जा रहा है, इसका उद्देश्य दिल्ली में सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों पर रोक लगाना है। उपलब्ध डाटा के मुताबिक उपरोक्त क्षेत्र में पिछले दो वर्षों में 67 घटक दुर्घटनाएं हुई हैं। जीरो फेटेलिटी कॉरिडोर का उद्देश्य इस क्षेत्र में सड़क दुर्घटनाओं से होने वाली मौतों के स्तर को शून्य तक पहुँचाना है। इस पहल के प्रभाव का अध्ययन करने के बाद इस मॉडल को अन्य शहरों में भी शुरू किया जा सकता है।
9. किस देश ने सियामीज़ लड़ाकू मछली को आधिकारिक राष्ट्रीय जलीय जीव घोषित किया?
उत्तर – थाईलैंड
थाईलैंड ने सियामीज़ लड़ाकू मछली को आधिकारिक राष्ट्रीय जलीय जीव घोषित किया। इससे सियामीज़ मछली के संरक्षण को बल मिलेगा। IUCN की सूची ने अनुसार इस मछली को “खतरे” की सूची में रखा गया है। थाईलैंड का आधिकारिक राष्ट्रीय पशु हाथी है। थाईलैंड का पुराना नाम सियाम था। 1939 में सियाम का नाम बदलकर थाईलैंड कर दिया गया।
10. बूरी बूत योल्लो उत्सव अरुणाचल प्रदेश की किस जनजाति द्वारा मनाया जाता है?
उत्तर – न्यीशी
हाल ही में 52वें बूरी बूत योल्लो उत्सव 2019 को अरुणाचल की न्यीशी जनजाति द्वारा मनाया गया। इस जनजाति को फरवरी माह में वसंत ऋतू के आगमन तथा सफल फसल के लिए मनाया जाता है। इस उत्सव के दौरान स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए प्रार्थना का आयोजन किया जाता है। इस उत्सव में किसी भी समुदाय, लिंग अथवा आयु वर्ग के लोग हिस्सा ले सकते हैं। इस उत्सव का नेतृत्व युवाओं द्वारा किया जाता है, जबकि बुज़ुर्ग व्यक्ति निबु (पुजारी) की भूमिका निभाते हैं।

« »

Advertisement

Comments