12 रेलवे जोन में ब्रॉड गेज मार्गों पर मानव रहित क्रासिंग से समाप्त किया गया : भारतीय रेलवे

भारतीय रेलवे ने कुल 16 जोन में से 12 रेलवे जोन में ब्रॉड गेज मार्गों पर मानव रहित क्रासिंग से समाप्त किया। यह 12 रेलवे जोन हैं – केन्द्रीय रेलवे, पूर्वी रेलवे, पूर्वी तटीय रेलवे, पूर्व केन्द्रीय रेलवे, उत्तर-पूर्वी रेलवे, दक्षिणी रेलवे, उत्तर-पूर्वी सीमान्त रेलवे, दक्षिण केन्द्रीय रेलवे, दक्षिण पूर्वी रेलवे, दक्षिण पूर्व केन्द्रीय रेलवे तथा पश्चिम केन्द्रीय रेलवे।

मुख्य बिंदु

ब्रॉड गेज मार्गों पर मौजूद कुल 3,479 मानव रहित क्रासिंग में से 3402 को समाप्त किया जा चुका है, शेष 77 मानव रहित क्रासिंग को दिसम्बर, 2018 तक समाप्त कर लिया जायेगा। इन मानव रहित क्रासिंग को सबवे, रोड अंडर ब्रिज अथवा क्रासिंग पर गार्ड की नियुक्ति करके समाप्त किया गया है। जिन मार्गों पर रेलगाड़ियों की गति 130 किलोमीटर प्रति घंटा से अधिक हैं, उन सभी मार्गों पर मानव रहित क्रासिंग को समाप्त कर दिया गया है। वर्ष 2009-10 में मानव रहित क्रासिंग पर 65 दुर्घटनाएं हुई थी, 2018-19 में अब तक मानव रहित क्रासिंग पर 3 ही घटनाएँ हुई हैं।

भारतीय रेलवे

भारतीय रेलवे विश्व के सबसे उत्कृष्ट रेलवे नेटवर्क में से एक है, भारतीय रेलवे का 1,51,000 किलोमीटर ट्रैक, 7000 स्टेशन, 13 लाख कर्मचारी तथा 160 वर्षों का इतिहास है। भारत में रेलवे की शुरुआत 16 अप्रैल, 1853 को बोरी बंदर और थाने के बीच हुई थी। तत्पश्चात भारतीय रेलवे का काफी विस्तार हुआ, देश के आर्थिक विकास में भारतीय रेलवे की भूमिका काफी महत्वपूर्ण है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,