2019 के लिए अब्दुल अज़ीज़ मुहमत को मार्टिन एन्नल्स मानवाधिकार पुरस्कार प्रदान किया गया

सूडान के शरणार्थी अब्दुल अज़ीज़ मुहमत को 2019 में मार्टिन एन्नल्स मानवाधिकार पुरस्कार प्रदान किया गया। उन्हें मैनस द्वीप पर नज़रबंद किया गया है। उन्हें यह पुरस्कार ऑस्ट्रेलियाई सरकार की क्रूर शरणार्थी नीति को बेनकाब करने के लिए दिया गया है।

अब्दुल अज़ीज़ मुहमत ने साथी शरणार्थियों की स्थिति की ओर विश्व का ध्यान आकर्षित किया। ऐसा पहली बार हुआ है जब शरणार्थियों के मुद्दों पर कार्य करने वाले ऐसे व्यक्ति को सम्मानित किया गया है जो स्वयं मानवाधिकार के हनन से पीड़ित है। ऑस्ट्रेलियाई एजेंसियों ने मुहमत की नाव को 2013 में अपने कब्ज़े में लिया था। वे तब से पापुआ न्यू गिनी के मैनस द्वीप पर फसे हुए हैं। स्विस वीजा मिलने के बाद उन्हें द्वीप को छोड़ने की अनुमति दी गयी है। मार्टिन एन्नल्स पुरस्कार की स्थापना नोबेल शांति पुरस्कार जीतने वाले ब्रिटिश मानवाधिकार कार्यकर्ता मार्टिन एन्नल्स के नाम पर की गयी है।

मार्टिन एन्नल्स

मार्टिन एन्नल्स एक ब्रिटिश मानवाधिकार कार्यकर्ता थे, उनका जन्म 27 जुलाई, 1927 को इंग्लैंड के स्टैफ़ोर्डशायर में हुआ था। वे 1968 से 1980 तक अमेंस्टी इंटरनेशनल के महासचिव रहे। एमनेस्टी इंटरनेशनल में महासचिव के रूप में एन्नल्स के कार्यकाल में एमनेस्टी इंटरनेशनल को नोबेल शांति पुरस्कार, इरेस्मस प्राइज तथा संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पुरस्कार प्रदान किये गये।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , , ,