30 जुलाई : मानव तस्करी के विरुद्ध विश्व दिवस

मानव तस्करी के विरुद्ध जागरूकता और पीड़ित व्यक्तियों के अधिकारों की रक्षा के लिए 30 जुलाई को मानव तस्करी के विरुद्ध विश्व दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस वर्ष UNODC (United Nations Office on Drugs and Crime) द्वारा मानव तस्करी के विरुद्ध विश्व दिवस की थीम ‘बच्चों व युवाओं की तस्करी के विरुद्ध करवाई’ है। मानव तस्करी में लगभग 1 तिहाई पीड़ित बच्चें होते हैं। इस दिवस का उद्देश्य पीड़ित बच्चों की समस्याओं व संभावित समाधानों पर रौशनी डालना है।

पृष्ठभूमि

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के अनुसार विश्व भर में लगभग 21 मिलियन लोग बंधुआ मजदूरी के शिकार हैं। इस अनुमान में श्रम व यौन शोषण के लिए तस्करी किये गए लोग भी शामिल हैं। मानव तस्करी से सभी देश किसी न किसी तरह जुड़े हुए हैं। UNODC की रिपोर्ट के अनुसार मानव तस्करी के लगभग एक तिहाई शिकार बच्चे ही हैं, जबकि 71% मानव तस्करी की शिकार महिलाएं व लड़कियां हैं।

मानव तस्करी के विरुद्ध विश्व दिवस

संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 30 जुलाई को मानव तस्करी के विरुद्ध विश्व दिवस निश्चित किया गया है। इसे 2013 में प्रस्ताव A/RES/68/192 के द्वारा स्वीकृत किया गया था। इस प्रस्ताव में यह कहा गया था कि मानव तस्करी से पीड़ित व्यक्तियों के अधिकारों की रक्षा व उनकी स्थिति के बारे में जागरूकता फैलने के इस दिवस को observe किया जाना आवश्यक है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , ,