IIT मद्रास ने किया भारत के पहले स्वदेश माइक्रोप्रोसेसर का निर्माण

IIT मद्रास के अनुसंधानकर्ताओं ने भारत के पहले स्वदेशी माइक्रोप्रोसेसर का विकास किया, इस प्रोसेसर का  उपयोग मोबाइल कंप्यूटिंग डिवाइसेस, कम उर्जा वाले वायरलेस सिस्टम तथा नेटवर्किंग सिस्टम में किया जा सकता है। इससे रक्षा तथा संचार क्षेत्र में आयातित माइक्रोप्रोसेसर पर भारत की निर्भरता कम होगी। इस प्रोसेसर को “शक्ति” नाम दिया गया है। चंडीगढ़ में इसरो की सेमी-कंडक्टर लेबोरेटरी में प्रोसेसर की “शक्ति” माइक्रोप्रोसेसर को डिजाईन किया है। सेमी-कंडक्टर लेबोरेटरी एक स्वायत्त संस्था है, यह देश की सामरिक आवश्यकता के लिए माइक्रोइलेक्ट्रॉनिक्स के अनुसन्धान व विकास के लिए कार्य करती है।

IIT मद्रास

IIT मद्रास की स्थापना 1959 में पश्चिमी जर्मनी की सहायता से की गयी थी। यह IIT संस्थान तमिलनाडु में स्थित है, इसे राष्ट्रीय महत्त्व के संस्थान के रूप में चिन्हित किया गया है। इसका कैंपस लगभग 2.5 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , ,