जैव इंधन

इस श्रेणी में जैव इंधन से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

भारतीय वायुसेना के विमान में पहली बार स्वदेशी जेट जैव इंधन का उपयोग किया गया

भारतीय वायुसेना के ए.एन. 32 विमान में स्वदेशी जेट जैव इन्धन का उपयोग किया गया, यह एक परीक्षण उड़ान थी। इस दौरान विमान ने लेह एअरपोर्ट पर सफल लैंडिंग की। मुख्य बिंदु ऐसा पहली बार हुआ है जब एयरक्राफ्ट के दोनों इंजनों में जेट जैव इन्धन का उपयोग किया गया है। लेह 10,682 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह सबसे अधिक ऊंचाई पर स्थितRead More...

10 अगस्त : विश्व जैव इंधन दिवस

10 अगस्त को प्रतिवर्ष विश्व जैव इंधन दिवस के रूप में मनाया जाता है, इसका उद्देश गैर-जीवाश्म इंधन के बारे में जागरूकता फैलाना है। जैव इंधन नवीकरणीय, प्राकृतिक रूप से नष्ट होने वाले (बायो-डिग्रेडेबल) तथा पर्यावरण के अनुकूल होते हैं। महत्त्व इस दिन वर्ष 1893 में सर रुडल्फ़ डीजल (डीजल इंजन के आविष्कारक)  ने पहली बार मैकेनिकलRead More...

भारतीय वायुसेना के AN-32 एयरक्राफ्ट को स्वदेशी जैव-जेट इंधन के द्वारा उड़ान भरने के लिए प्रमाणीकृत किया गया

हाल ही में भारतीय वायुसेना के AN-32 एयरक्राफ्ट को स्वदेशी जैव-जेट इंधन के द्वारा उड़ान भरने के लिए प्रमाणीकृत किया गया। AN-32 एक परिवहन विमान है, इसका निर्माण रूस द्वारा किया गया था। मुख्य बिंदु इस जैव-जेट इंधन में 10% इंधन जैव इंधन होगा, शेष 90% पारंपरिक हवाई इंधन होगा। AN-32 में जैव-इंधन की अनुमति Centre for Military Airworthiness and Certification (CEMILAC) द्वाराRead More...

भारत की पहली जैव इंधन युक्त उड़ान में किया गया था रतनजोत बीज का इस्तेमाल

जैव इंधन द्वारा चालित भारत की पहली उड़ान में रतनजोत बीज तेल का उपयोग किया गया था, यह उड़ान देहरादून से दिल्ली तक भरी गयी थी। इस इंधन में रतनजोत बीज के तेल को हवाई टरबाइन इंधन से मिलाया गया था। 43 मिनट की यह उड़ान स्पाइसजेट के बोम्बार्डीयर Q-400 विमान द्वारा भरी गयी थी। इस उड़ान के दौरान विमान में 20 अधिकारी तथा 5 क्रू मेम्बर्सRead More...

भारत में पहली बार हवाई जहाज़ ने जैव इंधन की सहायता से भरी उड़ान

भारत में पहली बार जैव इंधन की सहायता हवाई जहाज़ ने सफलतापूर्वक उड़ान भरी, यह देहरादून से दिल्ली तक थी। पहली जैव इंधन परीक्षण उड़ान स्पाइसजेट के टर्बोपोर्प Q-400 जहाज़ ने भरी। इसके साथ ही भारत उन चुनिन्दा देशों की श्रेणी में शामिल हो गया जिन्होंने वैकल्पिक इंधन जैसे जैव इंधन का उपयोग करके हवाई उड़ाने भरी हैं। इससेRead More...