जैव-विविधता

इस श्रेणी में जैव-विविधता से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

भारत सरकार ने जैव विविधता के संरक्षण की दिशा में 5 पहलें लांच की

22 मई, 2020 को अंतर्राष्ट्रीय जैविक विविधता दिवस मनाने के लिए पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने जैव विविधता के संरक्षण पर पांच पहलें शुरू की। मुख्य बिंदु यह पाँच पहलें निम्नलिखित शामिल हैं  : “जैव विविधता संरक्षण इंटर्नशिप कार्यक्रम” को लांच किया गया। इसका उद्देश्य 1 वर्ष की अवधि के लिए स्नातकोत्तरRead More...

22 मई: अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस

जैव विविधता के मुद्दों पर समझ और जागरूकता बढ़ाने हेतु हर साल 22 मई को अंतरराष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा वर्ष 2000 में संकल्प 55/201 के माध्यम से इस दिवस को मानाने की घोषणा की गई । जैव विविधता संरक्षण के लिए प्रयास संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा वर्ष 2010 को अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधताRead More...

भारत, भूटान और नेपाल ने ट्रांस बॉर्डर कंज़र्वेशन पार्क की स्थापना के लिए MoU पर हस्ताक्षर किये

भारत, भूटान और नेपाल ने ट्रांस बॉर्डर कंज़र्वेशन पार्क की स्थापना के लिए MoU पर हस्ताक्षर किये। इस उद्यान में जैव-विविधता से परिपूर्ण भू-दृश्य शामिल होंगे। महत्व अन्य पार्क प्रजाति पर आधारित होते हैं, यह पार्क भू-दृश्य पर आधारित होगा। इस प्रकार के अन्य पार्क ‘मानस पार्क’ क्षेत्र में पहले से मौजूद है। परन्तु इसRead More...

भारत  ने जैव विविधता पर सम्मेलन को छठवीं राष्ट्रीय रिपोर्ट सौंपी

भारत ने 30 दिसम्बर, 2018 को जैव विविधता पर  सम्मेलन को अपनी छठवीं राष्ट्रीय रिपोर्ट सौंपी। इस रिपोर्ट को ऑनलाइन जैव विविधता पर सम्मेलन के सचिवालय को केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन सिंह द्वारा सबमिट किया गया। यह रिपोर्ट नई दिल्ली में राज्य जैव विविधता बोर्ड की 13वीं राष्ट्रीय बैठक के दौरान सबमिट की गयी।Read More...

भारत में मृदा जैव विविधता संकटग्रस्त : विश्व वन्यजीव फण्ड

हाल ही में विश्व वन्यजीव फण्ड ने “Global Soil Biodiversity Atlas” जारी की, इसमें भारत को उन देशों की सूची में रखा गया है जो मृदा जैव विविधता के संकट से जूझ रहे हैं। इस एटलस को WWF की द्वि-वार्षिक “लिविंग प्लेनेट रिपोर्ट” 2018 में जारी किया गया। इस रिपोर्ट में मृदा जैव विविधता तथा परागणकों को उत्पन्न खतरे पर प्रकाश डाला गया है। मृदाRead More...