ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी

इस श्रेणी में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

बंगलुरु में की ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी केंद्र का उद्घाटन किया गया

नेशनल इन्फार्मेटिक्स सेंटर (NIC) ने बंगलुरु में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी केंद्र की स्थापना की है, हाल ही में इसका उद्घाटन केन्द्रीय मंत्री श्री रवि शंकर प्रसाद द्वारा किया गया। इस केंद्र के द्वारा सभी हितधारकों को ब्लॉकचेन सेवा प्रदान की जायेगी। इस केंद्र की सहायता से सरकार को भी इस प्रौद्योगिकी के महत्व/उपयोगिताRead More...

NIC ने बंगलुरु में की ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी केंद्र की स्थापना

नेशनल इन्फार्मेटिक्स सेंटर (NIC) ने बंगलुरु में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी केंद्र की स्थापना की है, इसका उद्घाटन केन्द्रीय मंत्री श्री रवि शंकर प्रसाद द्वारा किया जायेगा। इस केंद्र के द्वारा सभी हितधारकों को ब्लॉकचेन सेवा प्रदान की जायेगी। इस केंद्र की सहायता से सरकार को भी इस प्रौद्योगिकी के महत्व/उपयोगिता कीRead More...

हैदराबाद में भारत के पहले “ब्लॉकचेन जिले” की स्थापना की जाएगी

तेलंगाना सरकार ने हैदराबाद में भारत के पहले ब्लॉकचेन जिले की स्थापना करने का निर्णय लिया है। इसका उद्देश्य स्टार्टअप्स तथा संस्थानों के लिए इकोसिस्टम तैयार करना है। इस जिले में बैंकिंग, वित्तीय सेवा व बीमा, फार्मास्यूटिकल व स्वास्थ्य, लॉजिस्टिक्स व सप्लाई चेन इत्यादि विभिन्न क्षेत्रों से सम्बंधित कार्यRead More...

सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात ने लांच की साझा डिजिटल करेंसी अबेर

हाल ही में संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब के केन्द्रीय बैंकों ने “अबेर” नामक साझा डिजिटल मुद्रा को लांच किया। इस डिजिटल मुद्रा का उपयोग दोनों देशों के बीच ब्लॉकचेन तथा डिस्ट्रिब्यूटेड लेजर टेक्नोलॉजी के बीच वित्तीय भुगतान के लिए किया जायेगा। डिजिटल मुद्रा के लाभ इस डिजिटल मुद्रा के द्वारा वित्तीय विनिमयRead More...

नए सैटेलाइट सिस्टम के लांच के बाद रोसकॉसमॉस इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स के क्षेत्र में कार्य करेगा

रूस की सरकारी अन्तरिक्ष कारपोरेशन (रोसकॉसमॉस) ने “मैराथन” नामक सैटेलाइट सिस्टम के लांच के साथ इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स के क्षेत्र में कार्य करने की योजना तैयार की है। यह नया सैटेलाइट सिस्टम रूस के “स्फीयर” सैटेलाइट समूह का हिस्सा होगा, इसका निर्माण 2026 तक पूरा हो जायेगा। हालांकि मैराथन सिस्टम के कुल उपग्रहों कीRead More...