भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्‍थान Page-2

इस श्रेणी में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्‍थान से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

भारत के GSAT-30 उपग्रह को फ्रेंच गुयाना से लांच किया जायेगा

17 जनवरी, 2020 को भारत के GSAT-30 उपग्रह को फ्रेंच गुयाना से लांच किया जायेगा, इसे एरियनस्पेस द्वारा लांच किया जायेगा। इस उपग्रह की सहायता से INSAT-4A को रीप्लेस किया जायेगा। GSAT-30 उपग्रह एक संचार उपग्रह है। यह सैटेलाइट 15 वर्षों तक कार्य करेगा। इसका निर्माण इसरो ने किया है। इस उपग्रह का उपयोग DTH टेलीविज़न सेवाओं, सेलुलर कनेक्टिविटी,Read More...

इसरो तमिलनाडु में SSLV के लिए दूसरा लांच पोर्ट स्थापित करेगा

इसरो दक्षिण तमिलनाडु में तूतिकोड़ी में दूसरा लांच पोर्ट स्थापित करेगा। इसके लिए तमिलनाडु सरकार लगभग 2300 एकड़ भूमि की व्यवस्था करेगी। इस नए पोर्ट से स्माल सैटेलाइट लांच व्हीकल (SSLV) लांच किये जायेंगे। SSLV की सहायता से 500 किलोग्राम तक के पेलोड को अन्तरिक्ष में ले जाया जा सकता है। स्माल सैटेलाइट लांच व्हीकल छोटे सैटेलाइट्सRead More...

दूसरे देशों के उपग्रहों को लांच करके इसरो ने पिछले पांच वर्षों में कमाए 1,245 करोड़ रुपये

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) ने पिछले पांच वर्षों में दूसरे देशों के उपग्रहों को लांच करके कमाए 1,245 करोड़ रुपये हैं। पिछले पांच वर्षों में इसरो ने 26 अलग-अलग देशों के उपग्रह लांच किये हैं। वित्त वर्ष 2018-19 में इसरो ने अब अक विदेशी उपग्रहों को लांच करके 324.19 करोड़ रुपये की कमाई की है, इसमें पिछले वर्ष के मुकाबलेRead More...

इसरो ने बंगलुरु में की SSAM केंद्र की स्थापना

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) ने हाल ही में कर्नाटक के बंगलुरु में SSAM (Space Situational Awareness Control Centre) की आधारशिला रखी। इसका उद्देश्य भारतीय उपग्रहों को अन्तरिक्ष में फैले हुए कचरे से बचाना है। SSAM (Space Situational Awareness Control Centre) यह निष्क्रिय उपग्रहों से भारतीय उपग्रहों की रक्षा में काफी कारगर सिद्ध होगा, इससे विपरीत मौसम के बारेRead More...

कैबिनेट ने मास्को में इसरो तकनीकी संपर्क इकाई की स्थापना को मंज़ूरी दी

केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने रूस की राजधानी मास्को में इसरो तकनीकी संपर्क इकाई की स्थापना के लिए मंज़ूरी दी है। इस इकाई की स्थापना 2022 के मिशन गगनयान में रूसी साझेदारी के मध्यनजर की गयी है। इससे भारत और रूस के बीच अंतिरक्ष के क्षेत्र में सहयोग को बढ़ावा मिलेगा। यह इस प्रकार की छठवीं संपर्क इकाई है, इससे पहले अन्तरिक्षRead More...