भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्‍थान Page-3

इस श्रेणी में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्‍थान से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

इसरो की वाणिज्यिक शाखा न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड (NSlL) का उद्घाटन किया गया

23 मई, 2019 को न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड (NSIL) का उद्घाटन बंगलुरु में किया गया, यह भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) की वाणिज्यिक शाखा है। यह अन्तरिक्ष टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में निजी उद्यम को बढ़ावा देगी। यह तकनीक हस्तांतरण मैकेनिज्म के द्वारा स्माल सैटेलाइट लांच व्हीकल (SSLV) तथा PSLV के विकास व उत्पादन का कार्यRead More...

1 अप्रैल को इसरो लांच करेगा 29 सैटेलाइट्स

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) 1 अप्रैल को एक ही लांच में 29 सैटेलाइट लांच करेगा। इसरो 1 अप्रैल, 2019 को 436 किलोग्राम भार वाले एमिसैट उपग्रह को रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन के लिए लांच करेगा। इसके साथ अंतर्राष्ट्रीय ग्राहकों के 28 सैटेलाइट्स भी श्रीहरिकोटा से लांच किये जायेंगे। एमिसैट को 753 किलोमीटर कीRead More...

इसरो ने GSAT-7A संचार उपग्रह लांच किया

इसरो ने 19 दिसम्बर, 2018 को संचार उपग्रह GSAT-7A लांच किया, इस उगप्रह को श्रीहरिकोटा से लांच किया गया है। इस उपग्रह को भारतीय वायुसेना के लिए लांच किया गया है, इससे वायुसेना के एयरबेस को इंटरलिंक किया जायेगा, इससे वायुसेना के ड्रोन ऑपरेशंस में सहायता मिलेगी। इस उपग्रह का भार 2,250 किलोग्राम है। इससे KU-बैंड में संचार सुविधाRead More...

इसरो ने सफलतापूर्वक hysIS समेत लांच किये 30 विदेशी उपग्रह

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) ने 29 नवम्बर, 2018 को PSLV-C43 की सहायता से hysIS सैटेलाइट समेत 30 विदेशी उपग्रहों को लांच किया। इसमें 23 सैटेलाइट अमेरिका के थे, जबकि शेष सैटेलाइट ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, कोलंबिया, फ़िनलैंड, मलेशिया, नीदरलैंड्स और स्पेन के हैं। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसकी स्‍थापना 1969 में की गई।Read More...

इसरो ने सफलतापूर्वक लांच किया GSAT-29 संचार उपग्रह

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (ISRO) ने 14 नवंबर, 2018 को GSAT-29 संचार उपग्रह को सफलतापूर्वक लांच किया। इसे GSLV-Mk III द्वारा लांच किया गया। इस संचार उपग्रह का उपयोग जम्मू-कश्मीर और उत्तर-पूर्वी भारत में इन्टरनेट सेवाओं को सुधारने के लिए किया जायेगा। GSLV-Mk III काफी भारी राकेट है, वर्तमान में इसरो भारी रॉकेट्स युक्त उड़ानोंRead More...