रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन

इस श्रेणी में रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

भारत ने ‘ABHYAS’ का सफल परीक्षण किया

22 सितंबर, 2020 को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन ने ओडिशा के बालासोर परीक्षण रेंज में ABHYAS- हाई स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) वाहन का सफल उड़ान परीक्षण किया। इसे अब मिसाइलों के मूल्यांकन के लिए एक लक्ष्य के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। मुख्य बिंदु ABHYAS-HEAT एक हवाई वाहन है। यह ट्विन अंडरस्लंग बूस्टर का उपयोगRead More...

आत्मनिर्भर भारत अभियान : रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन ने डिजाईन, विकास व निर्माण के लिए 108 सिस्टम और सब-सिस्टम को चिन्हित किया

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत स्वदेशी रक्षा उत्पादन को मजबूत करने के लिए कई पहल की हैं। हाल ही में, DRDO ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए 108 सिस्टम और सब-सिस्टम को शामिल किया है। मुख्य बिंदु नई पहल के तहत, DRDO पहचान की गई 108 प्रणालियों को डिजाइन, विकसित और परीक्षणRead More...

DHRUV: DRDO ने यू.वी. आधारित सेनिटाइजर विकसित किया

रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन  (DRDO) के रिसर्च सेंटर ईमारत (RCI) ने डिफेंस रिसर्च अल्ट्रावॉयलेट सेनिटाइज़र (DHRUVS) विकसित किया है। मुख्य बिंदु हैदराबाद स्थित डीआरडीओ की रिसर्च सेंटर ईमारत (RCI)  ने मोबाइल फोन, लैपटॉप, आईपैड, पासबुक, चालान और कागज को सेनिटाइज़ करने के लिए एक अल्ट्रा वायलेट कैबिनेट विकसित किया है। इसकाRead More...

लेजर साइंस एंड टेक्नोलॉजी सेंटर ने ‘यूवी ब्लास्टर’ नामक अल्ट्रा वायलेट कीटाणुशोधन टॉवर विकसित किया

नई दिल्ली स्थित लेजर साइंस एंड टेक्नोलॉजी सेंटर (डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन की एक प्रयोगशाला) ने गुड़गांव स्थित एक निजी फर्म के साथ मिलकर 'यूवी ब्लास्टर' नाम से एक अल्ट्रा वायलेट (यूवी) कीटाणुशोधन टॉवर विकसित किया है। मुख्य बिंदु इस उपकरण का उपयोग प्रयोगशालाओं में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, कंप्यूटरRead More...

DRDO ने COVID-19 से लड़ने में मदद करने के लिए N99 मास्क, वेंटिलेटर और हैंड सैनिटाइज़र विकसित किये

DRDO (रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन) ने COVID-19  के प्रसार को रोकने के लिए चार वस्तुओं का विकास किया है। DRDO ने हैंड सैनिटाइज़र, वेंटिलेटर, N99 मास्क और बॉडी सूट विकसित किए हैं। हैंड सैनिटाइज़र भारतीय सशस्त्र बलों, सुरक्षा कोर और चिकित्सा कोर के लिए लगभग 4,000 लीटर हैंड सैनिटाइज़र तैयार किया गया है। DRDO ने रक्षा मंत्रालय केRead More...