सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया

इस श्रेणी में सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

आरबीआई ने बैंक समेकन योजना को मंज़ूरी दी

भारतीय रिज़र्व बैंक 10 सरकारी बैंकों का समेकन 4 बड़े बैंकों में करेगा, यह 1 अप्रैल, 2020 से लागू होगा। मुख्य बिंदु पंजाब नेशनल बैंक, ओरिएण्टल बैंक ऑफ़ कॉमर्स तथा यूनाइटेड बैंक का विलय एक इकाई में किया जायेगा, यह भारतीय स्टेट बैंक के बाद दूसरा सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक बन जायेगा। केनरा बैंक तथा सिंडिकेट बैंकRead More...

कैबिनेट ने सार्वजनिक सेक्टर के बैंकों के एकीकरण को मंज़ूरी दी

केन्द्रीय कैबिनेट ने सार्वजनिक सेक्टर के बैंकों का एकीकरण (Amalgamation) 4 बैंकों में करने के लिए मंज़ूरी दे दी है। इस एकीकरण के बाद सार्वजनिक सेक्टर के बैंकों की संख्या 12 रह जाएगी। यह एकीकरण 1 अप्रैल, 2020 से लागू हो जाएगा। मुख्य बिंदु ओरिएण्टल बैंक ऑफ़ कॉमर्स तथा यूनाइटेड बैंक का एकीकरण पंजाब नेशनल बैंक के साथ किया जायेगा।Read More...

गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस ने सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया के साथ समझौता किया

गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस ने भुगतान सम्बन्धी सेवाओं के लिए सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया के साथ साझेदारी की है। इस समझौते  के तहत सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया GeM पोर्टल पर पंजीकृत यूजर्स को GeM पूल एकाउंट्स, परफॉरमेंस  बैंक गारंटी  तथा अर्नेस्ट मनी  डिपाजिट इत्यादी से सम्बंधित सेवाएं मुहैया करवाएगा। गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेसRead More...

पी.वी. भारती को कारपोरेशन बैंक का नया एमडी और सीईओ नियुक्त किया गया

24 दिसम्बर, 2018 को कार्मिक मंत्रालय द्वारा जारी आदेश के अनुसार पी.वी. भारत को कारपोरेशन बैंक का नया मैनेजिंग डायरेक्टर तथा मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) नियुक्त किया गया। वे 1 फरवरी, 2019 को कार्यभार संभालेंगी, वे 31 मार्च, 2020 तक इस पद पर बनी रहेंगी। वे वर्तमान में कैनरा बैंक की कार्यकारी निदेशक हैं। इसके अतिरिक्तRead More...

केंद्र सरकार करेगी चार सहकारी बैंकों का विलय

केंद्र सरकार चार सरकारी बैंकों आईडीबीआई, ओरिएंटल बैंक ऑफ़ कॉमर्स (ओबीसी), सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया और बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) का विलय करने जा रही है. इस विलय का कारण इन बैंकों का 2017-18 के वित्तीय वर्ष खत्म होने तक लगभग 21,646.38 करोड़ रुपये का घाटा होना है. इन चारों बैंकों के विलय के बाद बनने वाला बैंक देश का दूसरा सबसे बड़ाRead More...