Ranjan Gogoi

इस श्रेणी में Ranjan Gogoi से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

देश के पूर्व मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई को राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया

16 मार्च, 2020 को भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को राज्यसभा के लिए मनोनीत किया। पूर्व मुख्य न्यायाधीश नवंबर, 2019 में सेवानिवृत्त हुए। अनुच्छेद 80-खंड (3) अनुच्छेद 80 के खंड(3) के तहत, राष्ट्रपति के पास विशेष ज्ञान वाले व्यक्तियों को राज्य सभा के लिए मनोनीत करने की शक्तियांRead More...

कल सेवानिवृत्त होंगे मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई

मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई 17 नवम्बर, 2019 को सेवानिवृत्त हो जायेंगे। उन्होंने 3 अक्टूबर, 2018 को भारत के 46वें मुख्य न्यायाधीश की शपथ ली थी। उन्होंने जस्टिस दीपक मिश्रा का स्थान लिया था। उन्होंने 3 अक्टूबर, 2018 से 17 नवम्बर, 2019 तक भारत के मुख्य न्यायधीश के रूप में कार्य किया। उनका कार्यकाल लगभग 13 महीने का रहा। जस्टिस रंजनRead More...

लोकसभा ने पारित किया सर्वोच्च न्यायालय (न्यायधीशों की संख्या) संशोधन बिल, 2019

लोकसभा ने हाल ही पारित किया सर्वोच्च न्यायालय (न्यायधीशों की संख्या) संशोधन बिल, 2019 पारित किया। इस बिल के द्वारा सर्वोच्च न्यायालय में न्यायधीशों की संख्या को 30 से बढ़ाकर 33 (मुख्य न्यायधीश के अतिरिक्त) किया जायेगा। इस बिल के द्वारा सर्वोच्च न्यायालय (न्यायधीशों की संख्या) अधिनियम, 1956 में संशोधन किया जायेगा। पृष्ठभूमि भारतRead More...

कैबिनेट ने सर्वोच्च न्यायालय में न्यायधीशों की संख्या को बढाने के लिए मंज़ूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने सर्वोच्च न्यायालय में न्यायधीशों की संख्या में वृद्धि करने के लिए मंज़ूरी दे दी है। मौजूदा समय में सर्वोच्च न्यायालय में मुख्य न्यायधीश समेत 31 न्यायधीश हैं, अब यह संख्या बढ़कर 34 हो जाएगी। इसके लिए सर्वोच्च न्यायालय (न्यायधीशों की संख्या)Read More...

सर्वोच्च न्यायालय समिति ने यौन शोषण के आरोप में मुख्य न्यायधीश को क्लीन चिट दी

सर्वोच्च न्यायालय समिति ने यौन शोषण के आरोप में मुख्य न्यायधीश को क्लीन चिट दे दी है। समिति के अनुसार महिला द्वारा मुख्य न्यायधीश पर लगाए गये आरोप निराधार हैं, इनमे सच्चाई नहीं है। 23 अप्रैल, 2019 को सर्वोच्च न्यायालय ने मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई के विरुद्ध यौन शोषण के मामले की जांच के लिए पैनल का गठन किया था।Read More...